क्यों हैं गणेश जी सभी देवताओं में प्रथम पूज्य ? - BABAJIFANCLUB

Hot

Monday, 5 February 2018

क्यों हैं गणेश जी सभी देवताओं में प्रथम पूज्य ?


किसी शुभ काम को प्रारम्भ करने से पहले लोग भगवान गणेश की पूजा करते हैं। गणेश जी सभी देवताओं में प्रथम पूज्य माने जाते हैं। यही नहीं, हिंदी में तो एक मुहावरा तक है- "श्री गणेश करना" अर्थात किसी कार्य का शुभारम्भ करना।  भगवान् गणेश को सारे दुखों को दूर करने वाला माना गया है। भगवान् गणेश को विघ्नहर्ता, विद्या, बुद्धि व तेज़ बल प्रदान करने वाले के रूप में जाना जाता है। हिन्दू धर्म में ऐसा विश्वास है कि गणेश जी के नाम स्मरण मात्र से लोगों के कार्य निर्विघ्न संपन्न होते हैं।

क्यों हैं गणेश जी सभी देवताओं में प्रथम पूज्य ?
इस संबंध में एक कहानी प्रचलित है-  जब ब्रह्मा जी को यह निश्चित करना था की देवताओं में सबसे पहले किसकी पूजा की जाए और इसका निर्णय कैसे हो तो उनके मन में एक ख्याल आया की कि जो सबसे पहले पृथ्वी  की परिक्रमा करके आएगा वही सबसे पहले पूज्य माना जाएगा। जैसे ही  प्रतिस्पर्धा की घोषणा की गई सभी देवता गण अपने अपने वाहन से परिक्रमा के लिए निकल पड़े। परन्तु  गणेश जी ने अपने पिता शिव और माता पार्वती की सात बार परिक्रमा की और चरण स्पर्श करने के पश्चात शांत भाव से उनके सामने हाथ जोड़कर खड़े रहे। गणेश भगवान् का मानना था की माता पिता के चरणों में ही सारा ब्रह्माण्ड है। भगवान् गणेश की ऐसी तेज बुद्धि को देखकर सारे देवता उनकी प्रशंसा कर रहे थे और सारे देवताओं ने मिलकर निश्चित किया की अब से देवताओं सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा की जाएगी।

No comments:

Post a Comment